मन में हो लगन तो मिलती है मंजिल ,का उदाहरण है ये ग्रुप

*2010 से 2014 तक हल्द्वानी में अपने कॉलेज समय में अपने गीत-संगीत और सांस्कृतिक गतिविधियों से धूम मचाने वाले प्रतिभाशाली युवाओं का ग्रुप “वरेण्यम-समूह” एक बार फिर से अपनी कला का जादू बिखेरने को तैयार है । काफी समय तक अपने अपने क्षेत्र में स्वयं को तराशने के बाद टीम के सभी युवा अब “वरेण्यम क्रिएशन्स” के बैनर तले नए कलेवर में प्रस्तुत हैं । इसी हेतु आज एक लॉन्चिंग समारोह आयोजित किया गया । और पहला गीत – “आ पास आ” भी रिलीज़ किया । जिसे खूबसूरत सी आवाज दी है हल्द्वानी की राधा द्विवेदी ने । संगीतबद्ध किया है – अमन-नितेश ने और वीडियो निर्देशन है विनय फुलारा का .*
लांचिंग के दौरान “वरेण्यम क्रिएशन्स” की प्रोडक्शन टीम ने अपने संगीत-सफर के बारे में बताया । हल्द्वानी एमबीपीजी कॉलेज में सांस्कृतिक कार्यक्रमों, एन. एस. एस. आदि गतिविधियों से अलग अलग शहरों के कुछ छात्र-छात्राएं सम्पर्क में आये, और गीत-संगीत के जुनून में एक ग्रुप बना डाला , और नाम दिया – “वरेण्यम-समूह” ..
कॉलेज में देशभक्ति गीत, लोकनृत्य, नाटक आदि प्रस्तुतियां देते देते कब इसी कला के क्षेत्र में पूरी तरह डूबने के मन बना लिया, पता ही नहीं चला । फिर अपने कॉलेज से बाहर अन्य संस्थानों में भी प्रस्तुतियां देने के लिए बुलाया जाने लगा । टीम भावना ले साथ काम करते करते नए कलाकारों को भी स्वयं के साथ मौका देते चले गए और धीरे धीरे शहर के स्तर पर प्रतियोगिताएं जीतने का सिलसिला चल पड़ा, और शहर से निकल कर जिले में, और फिर बहुत ही कम समय मे राज्यस्तरीय गीत-संगीत,नृत्य और अभिनय की प्रतियोगिताओं में परचम लहरा दिया । नतीजा यह निकला कि राष्ट्र-स्तरीय कार्यक्रमों (जैसे – नेशनल यूथ फेस्टिवल) आदि में उत्तराखंड की ओर से प्रतिनिधित्व करने का मौका मिलने लगा । इतना सब होने के बाद अब घरवालों की डांट-डपट कम हो रही थी, दोस्तों के टाइम-बर्बाद कर रहे हो जैसे ताने भी कम हो रहे थे,
और यहीं पर, सबने मन बनाया कि कला-क्षेत्र के विभिन्न अंगों में तकनीकी निपुणता भी हासिल करनी चाहिए, ताकि अपनी प्रतिभा को मजबूत नींव के साथ प्रोफेशनल रूप दिया जा सके । अब तक कुछ साथी अपने जीवन के अन्य रास्तों शादी, नौकरी पर आगे बढ़ चुके थे, पर जो कुछ जिददी बचे थे उन्होंने खुद को संघर्ष की आग में झोंकने का फैसला कर लिया, और निकल पड़े दिल्ली – मुंबई की राह को .. !! जहां तकनीकी चीजें सीखी जा सकती थीं और अपने सपनो को नई उड़ान दी जा सकती थी । टीम के विनय फुलारा ने जहां सिनेमेटोग्राफी की बारीकियां सीखीं, वहीं कीबोर्ड प्लेयर अमन सब्बरवाल ने संगीत-निर्देशन में पकड़ बनाई । एक ओर बांसुरी वादक नितेश बिष्ट ने बॉलीवुड में साउंड इंजीनियर के तौर पर नाम कमाया तो जगमोहन परगाईं और राम लोहनी शास्त्रीय-गायन की गहराइयों में जाने लगे । वहीं हिमांशु बिष्ट ने मीडिया एडिटिंग खुद को सँवारा तो पंकज शर्मा अपने तबला-वादन में रियाज़ की ओर जुट गए ।। परन्तु यूँ नई नई जगहों पर रहकर भी अपनी जगह के प्रति लगाव कायम था , और उत्तराखंड में ही तकनीकी रूप से दमदार प्रस्तुतिकरण की ललक मन मे बनी रही ।अंततः अब नए गीत संगीत के सातथ “वरेण्यम-क्रिएशन्स” के रूप में अपनी दमदार प्रस्तुति लेकर तैयार हैं ..
वहीं गीत बनने को लेकर राधा ने बताया कि ” स्कूल के समय से ही वह गुनगुनाने लगी थीं , परन्तु सांगीतिक माहौल न मिलने के कारण सिंगर बनने की ललक दबी ही रह गई । फिर एक दिन पुरानी साथी डॉ गुंजन जोशी ने प्रेरित किया तो फिर से बी.ए. संगीत विषय से किया और शास्त्रीय संगीत को समझा। लेकिन विवाहोपरांत घर-परिवार की जिम्मेदारियों में अंदर का संगीत फिर से खो सा गया । तभी पिछले साल अचानक वरेण्यम समूह से मुलाकात हुई, और मैंने गाने की इच्छा जताई, मेरी आवाज सुनते ही उन्होंने मेरे साथ गीत बनाने को लेकर हामी भर दी , और कई हफ्तों की मेहनत के बाद आज ये गीत आपके सामने बनकर तैयार है । गीत की रिकॉर्डिंग का कार्य स्व. पप्पू कार्की जी के पी.के. स्टूडियो में किया गया है और छायांकन हल्द्वानी के पास भुजियाघाट के बलोट रिजॉर्ट में किया गया है । मेकअप लोटस ज्योति का है और टीम मेम्बर के रूप में विशेष सहयोग दीपांशु शर्मा, विक्की महल, नितिन सूर्यवाल, मनीष पंत, मोहित बिष्ट, कृष्णकांत भट्ट आदि का रहा है

इस मौके पर मुख्य अतिथि तत्कालीन प्राचार्य एमबीपीजी डॉ बी.एस. बिष्ट भी उपस्थित थे, उन्होंने वरेण्यम के बारे मे बताते हुए कहा कि उस समय भी इन कलाकारों ने हमेशा कुछ हट कर करने की ओर ध्यान दिया, और डॉ निर्मला जोशी एवं हरीश जोशी (संगीत विभाग एमबीपीजी कालेज) थियेटर निर्देशक अनिल सनवाल का भी वरेण्यम के सफर में बहुत योगदान रहा, उन्होंने कहा कि हमें अपने छात्रों पर गर्व है , यूँ कहें कि वरेण्यम समूह सदैव अपने नाम के अनुरूप वरेण्यम अर्थात ‘वरण करने योग्य” ही था ..
इस मौके पर अनिल सनवाल,कृष्णकांत भट्ट,विक्की योगी,आकाश पाल,गुंजन,गुड्डू खजान,नितिन सुरेवाल,सुधीर कुमार समेत कई संगीत प्रेमी लोग मौजूद थे ।

Website Design By Mytesta +91 8809666000

Check Also

सुमित मनराल का ये गाना मचा रहा है धमाल

🔊 Listen to this कुमाउनी लोक गायक सुमित मनराल का नया “स्याली होसियाँ “ने मचाई …

Ksquare News